July 15, 2024
Bihar Bridge Collapse

Bihar Bridge Collapse: बिहार में एक और पुल ढहा, कई गांवों का टूटा संपर्क

Share this news :

Bihar Bridge Collapse: बिहार में पुल गिरने का सिलसिला जारी है. आज एक ही दिन में चार पुल ढह गए. अकेले सिवान में 3 पुल गिर गए हैं. पहला मामला देवरिया पंचायत के पराईन टोला का है, जहां दारौंदा प्रखंड अंतर्गत देवरिया और भीखा बांध गांव की सीमा पर गंडकी नदी पर बना हुआ पुल ध्वस्त हुआ है. वहीं तेवथा पंचायत में नौतन और सिकंदरपुर गांव के बीच गंडकी नदी पर बना पुल भी क्षतिग्रस्त हो गया. तीसरी घटना टेघड़ा पंचायात की है, जहां टेघड़ा और तेवथा पंचायत को जोड़ने वाली धमई नदी पर बना पुल धंस गया है.

जिला प्रशासन ने की थी मिट्टी की कटाई

देवरिया और भीखा बांध गांव की सीमा पर गंडकी नदी पर बना हुआ पुल पहले से जर्जर था, जिसे लेकर ग्रामीणों ने प्रदर्शन भी किया था. जिसके बाद जिला प्रशासन इसकी मरम्मत करवा रही थी. हालांकि इसके बाद भी बुधवार को यह पुल भरभराकर गिर पड़ा. ग्रामीणों का कहना है कि बीते दिन हुई भारी बारिश की वजह से पानी का स्तर बढ़ गया, जिससे पानी बहाव तेज हो गया और पुल धंस गया. ग्रामीणों का यह भी आरोप है कि प्रशासन ने नहर की सफाई के दौरान बिना मानक का ध्यान रखे नहर के किनारे जेसीबी से मिट्टी की कटाई की थी. इसी कारण पुल गिरा है.

इसी नदी पर बना एक और पुल गिरा

इसके पहले 22 जून को भी गंडकी नदी पर बना एक और पुल गिर गया था. 22 जून की सुबह पुल का एक पाया धंसना शुरु हुआ और देखते ही देखते पुल पूरी तरह धराशायी हो गया. जानकारी के मुताबिक, यह पुल महाराजगंज प्रखंड के पटेढा बाजार और दरौंदा प्रखंड के रामगढ़ पंचायत को जोड़ती थी. पुल गिर जाने से दोनों गावों के बीच आवागमन बाधित हो गया.

मोतिहारी में ढलाई के एक दिन बाद गिरा पुल

पिछले महीने बिहार के मोतिहारी में भी एक पुल ढलाई के एक दिन बाद ही गिर गया. जानकारी के मुताबिक, यह पुल (Bihar Bridge Collapse) मोतिहारी के घोड़ासहन प्रखंड अमावा से चैनपुर स्टेशन की ओर जाने वाली सड़क पर बन रहा था. करीब डेढ़ करोड़ रुपए की लागत से इस पुल का निर्माण हो रहा था, लेकिन ढलाई के एक दिन बाद ही यह धराशायी हो गया.

तेजस्वी यादव ने कसा तंज

बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने घटना को लेकर डबल इंजन सरकार पर तंज कसा है. सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर पोस्ट कर तेजस्वी ने कहा, “और बिहार में आज का चौथा पुल गिरा. बीजेपी और नीतीश कुमार की बिहार में 𝟏𝟖 वर्षों की रिकॉर्डतोड़ ईमानदारी से तंग आकर 15 दिन में अभी समाचार लिखे जाने तक कुल 10 पुलों ने पानी में कूदकर आत्महत्या कर ली.”

इसके पहले उन्होंने लिखा था, “सुशासनी नेकचलनी के सौजन्य से विगत 𝟏𝟓 दिन में बिहार में कुल 𝟗 पुल जल समाधि ले चुके है. डबल इंजन सरकार अब इसका दोष भी विपक्ष को देकर अपने कर्तव्यों, सुशीलता से परिपूर्ण वसूली तंत्र एवं डबल इंजन पॉवर्ड भ्रष्टाचार का इतिश्री कर सकती है.”


Also Read-

‘PM मोदी झूठ बोल रहे थे…’, खड़गे ने बताई विपक्ष के वॉकआउट की वजह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *