June 19, 2024
Brijbhushan Singh

Brijbhushan Singh के बेटे को टिकट देकर परिवारवाद में फंस गई BJP

Share this news :

Brijbhushan Singh: यूपी की कैसरगंज सीट काफी दिनों से चर्चा में थी. बीजेपी इस सीट से किसे चुनावी मैदान में उतारने वाली है, इसपर संशय बना हुआ था. कैसरगंज सीट पर मौजूदा सांसद बृजभूषण शरण सिंह का दबदबा रहा है. वह लगातार 6 बार लोकसभा सांसद रह चुके हैं. बृजभूषण सिंह का टिकट काटने से बीजेपी भी घबरा रही थी. लेकिन देश की महिला पहलवानों द्वारा लगाए गए यौन शोषण के आरोपों की वजह से बीजेपी की मुश्किलें बढ़ती गईं और अंततः बीजेपी को बृजभूषण सिंह का टिकट काटना पड़ा.

हालांकि बीजेपी ने यहां जनता की आंखों में धूल झोंकने के लिए कमाल का कदम उठाया. बृजभूषण सिंह का टिकट काटकर उनके छोटे बेटे करण भूषण सिंह को दे दिया. यानी जनता की नजर में बृजभूषण सिंह का टिकट भी कट गया और असल में बृजभूषण के हाथ से सत्ता भी नहीं गई.

बीजेपी ने फिर दिया परिवारवाद को तवज्जो

विपक्षी पार्टियों पर परिवारवाद का आरोप लगाने वाली बीजेपी परिवारवाद को बढ़ावा देने में सबसे आगे है. बृजभूषण सिंह (Brijbhushan Singh) पर इतने गंभीर आरोप होने के बाद भी वह उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर सकी. उलटा बेटे को टिकट दे दिया. बता दें कि बृजभूषण सिंह का बड़ा बेटा प्रतीक भूषण शरण सिंह भी बीजेपी विधायक है और अब सिंह के छोटे बेटे को भी बीजेपी ने लॉन्च कर दिया है.

पहलवानों ने जताई नाराजगी

बीजेपी के इस फैसले पर देशभर के पहलवानों ने नाराजगी जताई है. पहलवान बजरंग पूनिया ने सोशल मीडिया पर लिखा कि यह देश का दुर्भाग्य है कि मेडल जीतने वाली बेटियां सड़कों पर घसीटी जाएंगी और उनका यौन शोषण करने वाले के बेटे को टिकट देकर सम्मानित किया जाएगा. वहीं महिला पहलवान साक्षी मलिक ने एक्स पर लिखा कि देश की बेटियां हार गईं, बृजभूषण जीत गया. साक्षी ने आगे लिखा कि गिरफ्तारी छोड़, आज उसके बेटे को टिकट देकर आपने (बीजेपी) देश की करोड़ों बेटियों का हौसला तोड़ दिया है. सवाल करते हुए मलिक ने कहा कि टिकट दिया जाएगा तो एक ही परिवार में, क्या देश की सरकार एक आदमी के सामने इतनी कमजोर होती है.


Also Read-

‘मछली-मुगल, मंगलसूत्र, मुसलमान-पाकिस्तान’ से ऊपर नहीं उठ पा रहे PM मोदी, लालू यादव ने बताई वजह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *