July 15, 2024

Ajit Pawar NCP

Share this news :

Maharashtra Politics: लोकसभा चुनावों में यूपी के बाद बीजेपी के एनडीए गठबंधन को झटका दिया तो वो है महाराष्ट्र. महाराष्ट्र में हुई हार का ठीकरा बीजेपी और संघ के लोगों ने अजित गुट वाली एनसीपी पर फोड़ था.साथ ही हार के लिए एनसीपी से किए गए गठबंधन को जिम्मेदार ठहराया था. अब इस पर अजित पवार गुट की ओर से पलटवार किया गया है. एनसीपी अजित गुट के नेता अमोल मितकारी ने कहा कि राज्य में हुई हार के लिए बीजेपी विधायकों की ओर से अजित पवार को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है.

अमोल मितकारी ने आगे कहा “मैं ऐसे लोगों से कहना चाहता हूं अगर इसी तरह से अजित पवार को टारगेट किया जाता रहा तो फिर हम अलग स्टैंड लेने पर भी विचार कर सकते हैं.” दरअसल, ऐसे खबरें आई थीं की नतीजों की समीक्षा करने के लिए बीजेपी विधायकों ने जो बैठक बुलाई थी, उसमें नतीजों के लिए अजित गुट के साथ हुए गठबंधन को जिम्मेदार ठहराया गया. इसी को लेकर अब अजित गुट के नेता भड़कें हुए हैं.

एनसीपी नेताओं ने बीजेपी पर साधा निशाना


राज्य में एनडीए गठबंधन के जो नतीजे आए, उसके लिए कुछ एनसीपी नेताओं ने तो बीजेपी को निशाने पर लिया है.एनसीपी के एक नेता ने कहा कि संघ के साथ क्या हुआ ये उनका अपना मामला है, लेकिन अजित पवार के कारण बीजेपी को कोई नुकसान नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि बीजेपी नेता लगातार संविधान बदलने और 400 पार की बात कर रहे थे. शायद इसी का नुकसान हुआ हो.एनसीपी नेता ने कहा कि अजित पवार ओबीसी समुदाय अच्छी पैठ रखते हैं.

इसलिए महाराष्ट्र में हारा एनडीए


एनसीपी नेता ने कहा कि हमने बड़ी कोशिश की डैमेज कंट्रोल कर लें, लेकिन बीजेपी के कुछ नेता हैं जिनके मन में जो आता है वही बोलते हैं. ऐसे नेताओं के बयानों की वजह से नुकसान उठाना पड़ा है.एनसीपी के नेता ने कहा कि,हम नहीं बल्कि एनडीए में सहयोगी एकनाथ शिंदे की शिवशेना का मानना है कि राज्य में जो नतीजे आए हैं वो बीजेपी नेताओं के बड़बोले बयानों और 400 पार के नारे के कारण आए हैं.

बता दें कि, ये मामला आरएसएस से जुड़ी ऑर्गनाइजर मैगजीन में छपे एक लेख के चलते चर्चा में आया था.रतन शारदा के लिए इस लेख महाराष्ट्र में बीजेपी की हार का कारण अजित गुट की एनसीपी के साथ हुए गठजोड़ को बताया गया था.

Farmers Suicide: मोदी राज में हर घंटे एक किसान कर रहा आत्महत्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *