June 19, 2024
Ladakh

Ladakh

Share this news :

Ladakh: लद्दाख के एक्टिविस्ट सोनम वांगचुक ने 7 अप्रैल को चीन सीमा की तरफ मार्च करने के लिए लोगों से अपील की है. इससे पहले लद्दाख के लेह में धारा 144 लगा दी गई है. साथ ही प्रशासन ने साफ कर दिया है कि अगर कोई भी व्यक्ति कानून का उल्लंघन करते हुए पकड़ा जाएगा, तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

कांग्रेस ने बताया तानाशाह का फरमान

इस मुद्दे को लेकर कांग्रेस ने भी मोदी सरकार पर निशाना है. कांग्रेस ने अपने एक्स हैंडल से पोस्ट करते हुए कहा है, ” लद्दाख में चीन हमारी जमीन पर कब्जा कर रहा है. ये बात लद्दाख के लोग कह रहे हैं. इसे लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं. मोदी सरकार इस बात को छिपाने में लगी है.इसलिए लद्दाख में इंटरनेट बैन कर दिया, धारा 144 लगा दी, प्रदर्शन-विरोध पर रोक लगा दी. तानाशाह का फरमान है- सच बोलोगे, मारे जाओगे.”

इंटरनेट स्पीड की गई स्लो

लेह में धारा 144 लागू करने के साथ ही पुलिस ने अगले 24 घंटे के लिए यहां इंटरनेट स्पीड को 2जी तक सीमित करने का आदेश जारी किया है. गौरतलब है कि पिछले महीने 21 दिन लंबी अपनी भूख हड़ताल के दौरान पर्यावरण एक्टिविस्ट वांगचुक ने लद्दाख के लोगों से भारत-चीन सीमा पर चारागाह भूमि के कथित अतिक्रमण की जांच के लिए मार्च करने और उसमें शामिल होने के लिए अपील की थी. उन्होंने कहा था कि लद्दाख के 10 हज़ार लोग इस मार्च में हिस्सा लेंगे. हालांकि अब जब धारा 144 लागू कर दी गई है, ऐसे में चीन सीमा की तरफ मार्च करना आसान नहीं होगा.

बता दें कि लद्दाख को पूर्ण राज्य का दर्जा और संविधान की छठी अनुसूची में शामिल करने की मांग के समर्थन में हजारों लोगों ने एक महीने पहले मार्च निकाला था. इसकी शुरुआत सोनम वांगचुक ने ही की थी.

Also Read: मोदी सरकार ने 62 % नए सैनिक स्कूलों को RSS और BJP नेताओं को सौंपा, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

Also Read: भ्रामक विज्ञापन मामले में SC ने लगाई रामदेव-बालकृष्ण को फटकार, एक हफ्ते में मांगा हलफनामा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *